तुम हो…

अनजानी सी , कुछ बिसरी सी

 

यादों के फलक पर , हलकी धूप सी छितरी सी

 

समय के क़दमों तले गुम जिसे कर आये

 

यादों की कोमल धरती पर, उस घास सी बिखरी सी

 

गुम होती सी , फिर आती वो, पल में गायब हो जाती सी ,

 

यादों के बादल से, रिमझिम कुछ बरसी सी

 

मंद हवाओं में बहती वो खुशबू

 

कुछ सोंधी सी , यूं पसरी सी…

 

तुम..

 

 

मन के शांत से दरिया में

 

एक हलचल सी , कुछ लहरों सी

 

अनजानी सी , बेगानी सी

 

कुछ बेवजह तो कुछ बेमानी सी

 

फिर भी जानी पहचानी सी

 

सही कभी , कभी गलत

 

पर हर बार एक नयी कहानी सी

 

बेचैनी सी , परेशानी सी

 

ठहराव कभी , कभी रवानी सी ..

 

तुम…

 

कल्पना , या फिर ख्वाब सी हो

 

दूर हो पर क्यों पास सी हो

 

सर्दी की उस धूप सी हो

 

या फिर गर्मी की उस आग सी तुम

 

क्या हो तुम …

 

सागर की उस प्यास सी ,

 

या जीने की आखिरी आस सी ,

 

हर सांस के साथ जो जीता हूँ मैं

 

या फिर उस एहसास सी…

 

तुम…

L U S T

I feel for you baby, I want you like crazy

Of all the names it maybe, I doubt if one is love!

Storm in my thoughts, you choke in my mind,

Still it can’t be that, for it’s just not of that kind!

Desire of you closer, electric and so much,

The feel and the pleasure, you cause with that one touch!

Dark, wild, unruly the threads of your curls

Rope me, O tie me, for they make me go swirl…

Wide and penetrating, the mystery of a stare

You pull me with those eyes, and mine go there,

To those luscious and tender, tempting as they flip

Making me desire, and kiss, oh your lips!

Smooth as they make me, slip on your charms

Cage me, embrace me, oh tight in those arms.

The heave of your bosom, the sway of your hips

The ecstatic curvaceous world as it dips,

In the void that fills for what mine yearns …

The desire, the heat, all as it drips,

That fire, that passion, a name if I must

Love it doesn’t seem like, it some good ol’ Lust!

कहीं खो सा गया है …

उसे कहते क्या थे, यह तो नहीं याद

पर वह जो था एक एहसास,

सुखद , अनायास व अकस्मात

कहीं खो सा गया है |

 

वह साइकिल के पैडल पर रखे

पैरों में जो तत्परता थी.

नए नए रास्तों पर जाने की

दोस्तों संग जो उत्सुकता थी,

लुका छिपी व ऊंच नीच में

नज़र कभी जो भींच भींच कर ,

पलकों के कोनों से देखने में भी जो एक निश्चलता थी ,

उसे कहते क्या थे यह तो नहीं याद,

था ही क्या , सिर्फ एक एहसास , जिसमें एक सरलता थी

पर अब वो कहीं खो सा गया है |

 

 

वह रविवार की सुबह सवेरे

श्री कृष्णा का गोपियों संग रास

दोपहर के १२ बजने का इंतज़ार

जब आती अपने हीरो संग गीता विश्वास

शाम ढले वह चार बजे, अपनी पसंदीदा फिल्म की आस,

हाँ , वह था ही क्या , सिर्फ एक एहसास

पर अब सिर्फ एक याद , एक लंबी गहरी सांस

क्योंकि अब वो कहीं खो सा गया है |

 

वह नयी चीज़ के आने पर

चेहरे पर आती थी जो मुस्कराहट

वो पहला मोबाइल और उस पर नयी रिंगटोन

नया कंप्यूटर और उस पर की हुई वो सजावट

वो SMS आने की खुशी, और वो पहला डॉट कॉम ,

कुछ भी नहीं था वह, सिर्फ एक एहसास

पर अब महसूस होती है उसकी सिर्फ आहट

हाँ, वो कहीं खो सा गया है |

 

खोजें कहाँ उसे

था क्या वह, यह भी तो नहीं पता

समय की सादगी , सरलता

या फिर बचपन की मासूमियत भरी अदा,

अब तो बस एक रफ़्तार है , दौड है

समझने, महसूस करने का न वक्त है

हर दिन एक परीक्षा , हर दिन एक होड़ है

गुजर गया है बचपन, या फिर यह वक्त ही सख्त है ?

जो भी हो सच, आता नहीं कुछ ये रास …

पर था ही क्या वह, सिर्फ एक एहसास ,

जोकि अब कहीं खो सा गया है |

मौसम

शाम का वो ढलता सूरज ,

वो धुंधलाता-सा आसमान

gumगुम होती सी ये मद्धम किरणें,

और कुछ डूबते से अरमान ,

उन ठंडी बेज़ार हवाओं में

जब दीप न कोई जल पाए

दो आँखों की उस चमक से बस,

सारा अँधियारा छंट जाए …

हाँ, कुछ ऐसा ही है जीवन ये…

दिन छुपे या चाहे साँझ ढले ,इसे तो चलते जाना है, हाँ ,

कभी है दूर मंजिल, तो कभी न पास ठिकाना है ,

पर ऐसा है ये जीवन कि , यहाँ बस चलते जाना है …

 

जाड़े की उस शीत लहर में

धुआं धुआं सा हर ओर समा

सुबह सवेरे या शाम सहर में

रास्तों का ना कोई निशां

दिशाओं के इस भंवर में जब ,

कोई राह न जाते बन पाए ,

एक बढे हुए उस हाथ से बस,

फिर सारा रास्ता कट जाये

थाम लो उस हाथ को बस फिर

सारा कोहरा छंट जाए …

हाँ , कुछ ऐसा ही है जीवन ये , बस आगे बढते जाना है ,

हाथों में हैं हाथ कभी , कभी अकेले चलते जाना है ,

ऐसा ही है जीवन ये , रुकना न चलते जाना है …

 

बर्फीला वो मौसम जब,

सब शून्य सा स्थिर हो जाता है

हवा , पानी और ज़मीन क्या ,

दिल भी पत्थर हो जाता है ,

सख्त हुए हालातों को , उन जमे हुए जज्बातों को

एक प्यार भरा स्पर्श मात्र ,गर्मी से पिघला जाता है ,

उस ख़ामोशी के शोर में ,

गर्म हवा सा सहला जाता है , हाँ , जीवन ये चलता जाता है …

चाहे खुशी मिले या गम, हर हाल में ढलता जाता है ,

जीवन ये चलता जाता है …

उड़ान

रास्तों में है अँधेरा घना

या फिर खुद की ही हैं आँखें बंद ?

राह है लंबी अंतहीन

या खुद की ही है चाल मंद ?

क्यों न जान पाता कभी ये मन

क्यों होती ये दुविधा ये उलझन

जो पाता देख  स्वयं के पार

तो जान पाता, क्या है यह

बंधन, या खुद का ही विकार

आसमान से बरसी धुंध

या नयनों की ही है ज्योति भंग ?

है भीड़ बहुत इन राहों में

या खुद का ही ह्रदय है तंग?

कैसी अजब ये प्रश्नों की भूलभुलैया है

राह में है ठोकर कभी कभी अँधेरा विकराल है

उलझनों का जाल बुनते ये अंतहीन सवाल हैं

कौन दिखाए राह..न जाने कौन खिवैया है

ऐसी अजब यह प्रश्नों की भूलभुलैया है

है राह काँटों भरी पथरीली

या नाज़ुक हैं अपनी ही एड़ियाँ  ?

हैं सफर में मुश्किलें अनेक

या खुद ही बाँधी हैं ये बेड़ियाँ ?

जो है अभीष्ट..जो है कामना

जाऊं उस पथ पर  करूँ कैसे सामना

उस धुंध का..उस अन्धकार का

पथरीली राहों से एड़ियाँ में पड़ती दरार का

पर

असंभव है रुकना चलना है अविराम

देरी है बस कुछ पल की ..

फिर होगी मेरी उड़ान ….

Failures

Failures.

May be the pillars of success

The prelude to glory

The storm before rain

But for all they are

All they give and all they cause

An incessant and torturous pain

 

Pain.

Might be the test of strength

An exercise of endurance

A check of belief

But for all its values

All it torments and all it pursues

Is an indefinable and unbearable grief

 

Grief.

Could be the times of testing

A reason of sharing

An occasion to remember the divine

But for all its reasons

All it evokes and all it provokes

Is the flow of waters saline

 

If for all the good things that I treasure

I get them all in equal measures

(Fear-pain and grief)

Why be I right? Why be I good?

Why shall I seek righteousness

and why not pleasure?

 

Solitude, Loneliness

Out of the window, beyond my room

An emptiness persists, and hints of gloom

The gold of sun and silver of moon

The dry leaves and branches sewn

And the rest with me in this cocoon

Tell me oh! And how they croon

Wake up O! It’s not yet doom.

 

It’s not yet doom

Though you might be alone

Devoid of a companion, and to darkness prone

With all the wilds and waters flown

Too lost, insignificant and oblivious to the known,

Yet

Not gullible by this giant altitude

You might be lonely

But this ain’t no Solitude!

 

For

Solitude, is not just

the absence of people to have around

to share the vices and virtues profound

But

The lack of memories worth a mound

Which ease the pain and soothe the wound

The doors of heart whose echo pound

Such a silence without a sound

Of times spent sans no gratitude

That, my friend, is what they call Solitude.

 

I am lonely, but not solitary

Yet know not, how to make merry

Staring in the emptiness and lose my gaze

State of a calm, blurring into daze.

For all I have are waters white

Heaving on eyelids, the noon sunlight

Craving for a flicker , the silent night

All I wait is, end be soon

And all they tell me,

O! It’s not yet doom.

How are you ?

The other day

After an eternity, or was it a June and a may?

Like a long lost drop of stale dew

Came her message, out of the blue

The words were simple and O-so-few

… How are you?

 

Staring at the words do dark and clear

The music of raindrops I could hear

From the days when me and her were there

Which today I don’t know was exactly where

When she were what I saw everywhere

Confessions she had of her own share

Yet when I said it guess it wasn’t fair

For

She hadn’t looked at me that way

And her heart rested somewhere far away

Then what for those glimpses and times at day

When I was the one come what problem may

And with me in bright sun or clouds grey

Then things she said would never say

I could never forget, are here to stay.

 

Of selfishness, and calculating

Misinterpretation and self pleading

Of childishness and inappropriating

She seemed to know me pretty well

Hiding it all in the heart of a shell

But why would she ask if already knew

Oh so very well, How are you ?

Utopia…

In the rarity of peace

In the silence of loneliness

There lies a noise

There lies a chaos

Of the could haves

Of the what ifs

From futile imaginations

Of juvenile considerations

Spiraling into misty realms

Comparisons of reality and dreams

That sinking feeling,  And realizations

Of  How could I , and trivializations

That craving desire, and infatuation

To turn the needles back

To undo what is done

And escape the dark despair of restlessness

But Alas! And so says the righteousness

There never is a time there never is a land

Where all things right and virtues stand

That past is a ghost and future is a phobia

And there is a reason its called utopia…!

I Want…

I just want to be Right

That’s my only desire

Is it too utopian a sight?

Or are we the puppets of Satan?

 

I only want to be Just

Sans the ridicule of being gullible

Sad, the fetters of crime and lust

Or are we the captives of devil?

 

I want not to be Rude

Amidst the flares of angst

And emotions so crude

Or are we the paragons of anger?

 

I want to be Fearless

With other lives threaded to mine

Is it leisurely to have a spine?

Or are we the fabricators of excuses?

 

I want to be just Me

Alas! The imperfections the infirmity

The masks of vanity

The cause of keeping the threads entire

The hoards of multiple and fake attire

How can I be just me

And tread the path of ol’ good morality

When my world and its threads

Pull me to the bound infinity

Where rule greed and deception spree

Tell me, how can I forget my frailty

And just be Me..